Aadhaar will be made in Government offices from September 2017 , 25,000 centers will be affected

आधार जारी करने वाली अथॉरिटी यूआईडीएआई ने राज्‍यों से कहा है कि वे सभी आधार इन्‍रोलमेंट्स सेंटर्स (प्राइवेट एजेंसियों के सेंटर भी) इस साल सितंबर तक सरकारी या निगम के के कैम्पस से शिफ्ट कर लें। यूआईडीएआई के इस फैसले का असर देशभर में 25 हजार एक्टिव एनरोलमेंट सेंटर्स पर होगा। अथॉरिटी ने आधार बनाने के लिए ज्यादा पैसे लेने और आधार सेंटर्स के वक्त पर नहीं खुलने की शिकातयों के बाद यह फैसला किया है। इस फैसले से सभी आधार सेंटर्स अथॉरिटी की निगरानी में आ जाएंगे।

UIDAI  के सीईओ अजय भूषण पांडेय जी ने सभी राज्यों को लेटर लिखा है |इसमें कहा गया है कि 31 जुलाई तक तय कर लिया जाए कि किन-किन गवर्नमेंट कैम्पस में सेंटर्स शिफ्ट किए जाने हैं।   – आधार सेंटर्स को 31 अगस्‍त 2017 तक गवर्नमेंट कैम्पस जैसे- कलेक्ट्रेट, जिला परिषद या निगम के दफ्तरों में शिफ्ट करना होगा। – उन्‍होंने कहा, “ये सेंटर बैंक, ब्‍लॉक ऑफिस, तहसील ऑफिस या राज्‍यों सरकारों की ओर से चलाए जा रहे डिलिवरी ऑफिसेज में शिफ्ट किए जा सकते हैं।”

अपना एनरोलमेंट सेंटर खोल सकती हैं राज्‍य सरकारें

28 जून को सभी राज्‍यों के चीफ सेक्रेटरीज को लिखे लेटर में यूआईडीएआई ने कहा है कि राज्‍य सरकारें अपना खुद का एनरोलमेंट सेंटर सरकारी और निगम कैम्पस में खोल सकती हैं। इसमें वह अपने ऑपरेटर और इम्प्लॉई रख सकती हैं।  – यूआईडीएआई ने कहा कि शुरुआत में हर ब्‍लॉक या तहसील कम से कम तीन सेंटर खोले जाने चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *